ई-गवर्नेंस

ई-गवर्नेंस

पंचायतों के उत्तरोत्तर बढ़ते हुये कार्यों का दक्षतापूर्वक सम्पादन और पारदर्शिता हेतु भी पंचायतों की आई0टी0 क्षमतावृद्धि एक अत्यंत महत्वपूर्ण पहलू है। इस हेतु 515 पंचायत समितियों में आई0टी0 सेल की स्थापना, जिसमें कम्प्यूटर, प्रिन्टर, स्कैनर, यू0पी0एस0, जेनरेटर, तथा फर्नीचर आदि हेतु वर्ष 2008-09 में प्रति पंचायत समिति 50 हजार रुपये की दर से कुल करीब 2.50 करोड़ रु0 तथा वर्ष 2011-12 में प्रति पंचायत समिति अतिरिक्त 125000 रु0 की दर से कुल करीब 6.50 करोड़ रु0, इस प्रकार करीब 9.00 करोड़ रु0 की राशि उपलब्ध कराई गई है।

IT Related विशिष्ट प्रशिक्षणः आई0टी0 सेल के लिए बेल्ट्रान से प्राप्त करीब 350 कम्प्यूटर प्रशिक्षित आपरेटरों को प्राथमिकता से पंचायतों के लेखा-जोखा को आधुनिक रूप से इसके लिए विशेष रूप से भारत सरकार से तैयार प्रिया-साफ्ट एप्लीकेशन के माध्यम से आनलाईन संधारण हेतु प्रशिक्षण की महत्वाकांक्षी योजना पर विभाग पूरी प्रतिबद्धता से तेजी से कार्य कर रहा है।

इसके लिए जिलों से विशेष रूप से चुने गये 76 जिला प्रशिक्षक को वर्ष 2011 में प्रिया-साफ्ट पर विशेष प्रशिक्षण भारत सरकार के दक्ष प्रशिक्षकों के माध्यम से जून में दिया गया था। उस वक्त बेल्ट्रान से प्रखंड स्तरीय आपरेटर उपलब्ध नहीं हुये थे। उनके उपलब्ध होने के पश्चात् उनमें से 38 जिला प्रशिक्षकों के साथ कुल 106 प्रतिभागियों, यथा, एक पंचायत आइ0टी0 आपरेटर एवं जिला परिषद् के लेखापाल को फरवरी, 2012 में रिफ्रेशर प्रशिक्षण प्रदान कर दिया गया है। जिले में अभी तक उपलब्ध करीबन 350 आपरेटर को प्रिया-साफ्ट पर इनके माध्यम से अप्रील के द्वितीय सप्ताह में सघन प्रशिक्षण का कार्यक्रम आयोजित है। इसके बाद वे आपरेटर जिला परिषद् और पंचायत समितियों के लेखा को आनलाईन संधारण करने के कार्य शुरू करेंगे, जो पंचायतों की क्षमतावृद्धि में एक महत्वपूर्ण आयाम जोड़ेगा।

प्रिया सॉफ्ट :-

यह पंचायती राज संस्थाओं के लेखा संधारण को आधुनिक रूप से कम्प्यूटर पर किये जाने के लिए एन0आई0सी द्वारा विकसित एक प्रभावी सॉफ्टवेयर है। इस सॉफ्टवेयर को लागू किए जाने से पंचायती राज संस्थाओं मेें पारदर्शिता एवं उत्तारदायित्व को सुनिश्चित करने में काफी मदद मिलेगी। इस पर प्रशिक्षण हेतु प्रथम चरण में राज्य के सभी 38 जिलों से जिला पंचायत राज पदाधिकारी, लेखा संधारण सम्बंधी पदाधिकारी एवं कम्प्युटर ऑपरेटर को प्रशिक्षित करते हुए कुल 118 मास्टर प्रशिक्षकों के दल को तैयार कर लिया गया है। अगले चरण में वे जिला के प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे, जो प्रखंड स्तरीय प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। इसके फलस्वरूप प्रखंड स्तर तक प्रिया सॉफ्ट पर प्रशिक्षित मैनवार के द्वारा पंचायतों के लेखा का संधारण अगले सुनिश्चित किये जाने की योजना है।

e-PRI लागू करने हेतु 381 करोड़ रु0 का परियोजना प्रतिवेदन तैयार हुआ है, जिस पर कार्रवाई की जा रही है। अगले चार सालों में इस परियोजना की समाप्ति पर सभी 8442 पंचायतों, 534 पंचायत समितियों तथा 38 जिला परिषदों में पंचायती राज व्यवस्था के कार्यों को कम्प्यूटरीकृत किया जायेगा। इसके लिए अपेक्षित संख्या में कम्प्यूटर तथा अन्य उपकरणों की उपलब्धता, कम्प्यूटर मैनपावर, उनका प्रशिक्षण तथा महत्वपूर्ण applications (software) का निर्माण सुनिश्चित किया जाएगा।

प्लान प्लस :-

जिला योजना को प्लानप्लस सॉफ्टवेयर के मदद से निर्मित करने हेतु सभी मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जिला परिषद, जिला योजना पदाधिकारी, जिला सूचना पदाधिकारी (N.I.C.) का राज्य स्तरीय एवं जिला स्तरीय कार्यशाला सम्पन्न। प्लानप्लस द्वारा जिला योजना की तैयारी। यह सॉफ्टवेयर योजनाओं के निर्माण एवं अनुश्रवण संबंधी सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग बी0आर0जी0एफ0 की योजनाओं के निर्माण एवं अनुश्रवण में किया जा रहा है। इस सॉफ्टवेयर के संबंध में उप विकास आयुक्त, प्रखंड विकास पदाधिकारी, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद्/पंचायत के निर्वाचित प्रतिनिधि एवं कर्मियों को पूर्व में प्लान प्लस पर योजनाओं को अपलोड करने तथा उसका ऑनलाईन अनुश्रवण करने के संबंध में जानकारी प्रदान की गई।

आई0टी0 सेल का सुदृढ़ीकरण :-

38 जिले और 531 प्रखंडों में आई0टी0 सेल की व्यवस्था की जा रही है, जिसके लिए प्रति सेल करीब 1.75 लाख रु0 की राशि उपलब्ध कराई गई है। इसके अतिरिक्त सभी जिलों एवं प्रखंडों में कम्प्यूटर प्रशिक्षित कर्मियों ( आई0टी0 सहायक) की सेवाएं बेल्ट्रॉन से प्राप्त की गई है तथा आई0टी0 सेल के माध्यम से E-Panchayat MMP से संबंधित कार्यो, यथा: प्रिया सॉफ्ट, प्लान प्लस आदि को ससमय एवं कुशलतापूर्वक सम्पादन सुनिश्चित कराने हेतु प्राथमिकता से कार्रवाई की जा रही है।